Your browser does not support JavaScript!

अस्थमा

This post is also available in: English (English)

अस्थमा क्या है?

अस्थमा फेफड़ों की एक बीमारी है, जिसमें वायुमार्ग और फेफड़ें सूज (फूल) जाते है, जिससे व्यक्ति को हवा को फेफड़े के अंदर और बाहर लेने में परेशानी होती है।

यह पुरानी, गंभीर और कभी-कभी जानलेवा साबित हो सकती है।

“अस्थमा अटैक” विभिन्न कारकों द्वारा बिगड़ सकता है, जो वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियों को कस देता है। इस तरह यह सांस लेने को और अधिक कठिन बना देता है।

Asthma attack 1

यह सब कैसे होता है?

• अस्थमा के तीन मुख्य भाग हैं, अत्यधिक बलगम बनना, वायुमार्ग में सिकुड़न और मोटापन।

• इसमें एलर्जी, संवेदक (सेन्सीटाईजर्स), वायरस और वायु प्रदूषकों जैसे ट्रिगर कारकों के संपर्क में आने पर, हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा पैदा की गयी कोशिकाओं और कुछ सफेद रक्त कोशिकाओं के जमाव की शुरुआत होती है।

• यह वायुमार्ग की दीवारों का मोटा और वायुमार्ग के आसपास की चिकनी मांसपेशियों को कस देता है, जिससे सांस लेना बहुत मुश्किल हो जाता है।

• बलगम के बढ़ते उत्पादन के कारण, वायुमार्ग में बाधा पैदा हो जाती है, जो हवा को अंदर और बाहर करने में मुश्किल पैदा करता है।

• अधिक वैज्ञानिक स्पष्टीकरण यह है कि, एलर्जी, वायुमार्ग कोशिकाओं की परत की सुरक्षात्मक बाधा के खोने कारण बनती है। ये कोशिकाओं को निकालना शुरू करते हैं, जो एलर्जी प्रतिक्रियाशील प्रतिक्रिया के बाउट का कारण बनता है।

• यह वायुमार्ग सिुकड़न, खून की आपूर्ति में बढ़त और वायुमार्ग में मौजूद खून की नसों की संख्या (नसों का फैलाव) के कारण होता है।

कारण:

• पर्यावरण उत्तेजनाएं: इसका सबसे आम कारण धूम्रपान है। निष्क्रिय धूम्रपान भी अस्थमा का कारण बनता है। उसके बाद कुछ पर्यावरणीय कारक जो इसका कारण बनते हैं जैसे, वायु प्रदूषण, इंजन और वेल्डिंग से निकलने वाला धुआं, धूल में मौजूद कण, आग का धुआं, निर्माण ठेकेदारों के मामले में घर के पेंट, और हेयर सैलून में काम करने वाले लोग, पराग, घरेलू पालतू जानवर, वायु प्रदूषण और नमी या मोल्ड एक्सपोजर।

• अन्य संक्रमणों के साथ: राइनोवायरस, जैसे वायरल संक्रमणों कों, एक आम ट्रिगर माना गया है। इसका संबंध रेस्पिरेटरी सिंक्याटियल वायरस संक्रमण के साथ देखा गया है।

• जीइआरडी (GERD): से गले में बार-बार रिफ्लक्स के एपिसोड होते है, जो गले की परत में परेशानी पैदा करते है, और लक्षणों के बिगड़ने के लिए इसे संवेदनशील बनाते है।

• जेनेटिक्स: इसमें पारिवारिक संबंध देखा गया है।

• एलर्जिक रोग विकसित करने के लिए एटोपी/जेनेटिक प्रवृत्ति: एलर्जी राइनाइटिस >80 प्रतिशत दमा रोगियों में मौजूद है।

• धूम्रपान: आम कारणों में से एक है।

• आहार: मोटे व्यक्ति जिनकी, बीएमआई > 30 किलो/m2 होती है, उनमें लक्षणों का बिगड़ता हुआ देखा गया है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि, विटामिन सी, डी, ए, मैग्नीशियम और ओमेगा-3 की कम खुराक से युक्त आहार अस्थमा से जुड़ा हुआ है।

• वायु प्रदूषण: हवा में मौजूद नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, ओजोन और डीजल कण जैसे वायु रसायन, अस्थमा को खराब और ट्रिगर करते हैं।

• ड्रग्स: बच्चों में एसीटामिनोफेन (पैरासिटामोल) का उपयोग अस्थमा को ट्रिगर कर सकता है। क्योंकि यह शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स और एंटीऑक्सीडेंट के बीच असंतुलन का कारण बनता है। बीटा ब्लॉकर्स और एस्पिरिन से भी हालत बिगड़ती देखी गयी है।

• हार्मोनः प्रीमेंस्ट्रुमेनल पीरियड, थाइरोटॉक्सोसिस और हाइपोथायरायडिज्म लक्षणों को खराब करते हैं। यहां तक कि, प्रोजेस्टेरोन का निम्न स्तर भी लक्षणों के बिगड़ने का कारण बनता है।

• तनाव: मनोवैज्ञानिक कारकों से ब्रोंकोकॉन्स्ट्रिक्शन होता है, जिससे लक्षण और बिगड़ते हैं।

• भौतिक कारक: मौसम की स्थिति जैसे, ठंडी हवा, गर्म हवा का संपर्क या मौसम में परिवर्तन हमले को ट्रिगर कर सकते हैं। हंसी के बाउट या रोने जैसी विभिन्न भावनाएं या इत्र की एक मजबूत गंध के संपर्क, अस्थमा को ट्रिगर कर सकता हैं।

• व्यायाम: यह फेफड़ों द्वारा ऑक्सीजन अंदर लेने तथा और कार्बन डाइऑक्साइड बाहर छोड़ने के बीच एक असंतुलन का कारण बन सकता है, जिससे साँस लेने में मुश्किल होती है। इसे “व्यायाम-प्रेरित अस्थमा” कहा जाता है।

• शिशुओं और नवजात: प्री-टर्म, जन्म के दौरान कम वजन, सिजेरियन सेक्शन से पैदा होने वाले शिशुओं, जिनको स्तनपान नहीं कराया जाता और जिनका गर्भावस्था के दौरान उनकी माताओं के धूम्रपान का इतिहास होता है, उन्हे अस्थमा से पीड़ित होने का खतरा अधिक होता है।

अधिक जानें …

जोखिम कारक:

• अटॉपी: जिन व्यक्तियों में एलर्जी से जुड़े रोगों का इतिहास होता है, जैसे एलर्जिक राइनाइटिस या एटोपिक डर्मेटाइटिस, वह अस्थमा के विकास के लिए अधिक संवेदनशील होते हैं।

• जेनेटिक्स: यदि आपके परिवार में किसी सदस्य, भाई-बहन/माता-पिता को अस्थमा है, तो आपको अस्थमा होने की संभावना बढ़ जाती है।

• व्यवसाय: किसानों, वुडवर्कर्स, गेहूं का आटा, वाइनमेकर्स, पक्षी/पशु पालने वाले, और सैलून में काम करने वाले व्यक्तियों, जिनको एलर्जी का जोखिम अधिक होता है, उनको अस्थमा के विकास का खतरा अधिक होता है।

• जीवन शैली: धूम्रपान से स्थिति बिगड़ती हुयी देखी गयी है।

• वायरल संक्रमण: ये अस्थमा विकसित होने का खतरा बढ़ा सकते है।

• मोटापा

asthma risk factors

प्रकार:

 

नाम क्लीनिकल फीचर्स
अक्यूट सिविएर अस्थमा • सांस लेने में कठिनाई के साथ छाती में कसाव, जिसमें इनहेलर के उपयोग से भी राहत नहीं मिलती है।

• व्यक्ति सांस फूलने के कारण बात नहीं कर सकता।

• त्वचा और नाखूनों का नीला पड़ जाना।

• हृदय गति में वृद्धि

• ऑक्सीजन की एक उच्च एकाग्रता >90 प्रतिशत

• शॉर्ट-एक्टिंग बीटा-एगोनिस्ट की हाई डोज का इस्तेमाल करें।

 

रिफ्रैक्टरी अस्थमा · दवा लेने के बाद भी व्यक्ति को लगातार लक्षणों का अनुभव होता है।

· लगातार हमले

· फेफड़ों के कामकाज में कमी

एस्पिरिन सेन्सिटिव अस्थमा · एस्पिरिन या अन्य कॉक्स अवरोधकों के उपयोग के बाद स्थिति का बिगड़ना।

· अस्पताल में लगातार भर्ती होने वाले रोगियों में आम।

· यह राइनाइटिस, नाक बहना, फेशियल फ्लशिंग और घरघराहट से जुड़ा हुआ है ।

· उपचार में इनहेल्ड कोर्टिकोस्टेरॉयड का उपयोग हो रहा है।

बुजुर्गों में अस्थमा· उम्र > 65 साल है

· अस्थमा के साथ सीओपीडी को होना

· बीटा-अगोनिस्ट बुजुर्गों में मांसपेशियों के झटके और हिलने का कारण बनता है

ब्रिटल अस्थमा · टाइप I फेफड़ों के कामकाज में भिन्नता का एक निरंतर पैटर्न दिखाता है, और कई बार मौखिक कोर्टिकोस्टेरॉयड या बीटा-एगोनिस्ट के निरंतर उपयोग की आवश्यकता हो सकती है।

· टाइप II ब्रिटल अस्थमा आम तौर पर फेफड़ों में अप्रत्याशित गिरावट के साथ सामान्य कामकाज को दिखाता है, जिसके परिणामस्वरूप मृत्यु होती है।

· सबक्युटेनियस एपिनेफ्रीन, टाइप II में इस्तेमाल की जाने वाली पसंदीदा दवा है।

कोर्टिकोस्टेरॉयड रेसिस्टेन्ट अस्थमा · व्यक्तिकोर्टस्टेरॉयड के लिए एक अपर्याप्त प्रतिक्रिया दिखाता है

· ओरल प्रेडनीसोलोन (prednisolone) की उच्च खुराक (40 मिलीग्राम 2 सप्ताह के लिए दिन में एक बार) में प्रतिक्रिया देने में विफलता

· कोर्टिकोस्टेरॉयड मोनोसाइट्स और लिम्फोसाइट्स (इन्फ्लामेट कोशिकाओं) पर कम एन्टीइन्फ्लामेट्री प्रभाव पड़ता है

अस्थमा-सीओपीडी ओवरलैप· धूम्रपान करने वाले व्यक्ति इससे पीड़ित होते हैं

· सीओपीडी और अस्थमा दोनों की विशेषताएं होती हैं

· इन्हेल्ड कोर्टिकोस्टेरॉयड, लंबे समय से काम करने वाले बीटा-एगोनिस्ट और लंबे समय से काम करने  वाले मस्करिनिक एन्टागोनिस्ट की ट्रिपल थेरेपी उपयोगी है

लक्षण:

लक्षणों के दो चरण होते हैं, अर्ली और लेट। अर्ली फेज 1 से 2 सप्ताह तक रहता है, और लेट फेज आम तौर पर 2 सप्ताह के बाद शुरू होता है, और 10 सप्ताह तक चल सकता है।

 

अर्ली/कैटेरहललेट/पैराक्सीस्मल
कम ग्रेड बुखारतेजी से खांसी
हल्की खांसीखांसी के अंत में उच्च खरखराहट ध्वनि
बहती नाकथकान
शिशुओं में- एप्निया, एक ठहराव के साथ सांस लेनागाढ़ा बलगम उत्पादन के कारण खांसी के दौरान या बाद में उल्टी
आम सर्दी की नकल करता हैरात में खांसी बिगड़ जाती है

रिकवरी/कानवलिसेंट: खांसी की दर में कमी होती है और व्यक्ति सामान्य होता जाता है।

 

Asthma symptoms

 

चिंताजनक संकेत:

• सीने में दर्द

• उंगलियों, त्वचा या नाखूनों का नीला पड़ जाना (साइनोसिस)

• साँस लेने में परेशानी /सांस लेने में गंभीर कठिनाई

• चलने या बात करने में कठिनाई।

जटिलतायें:

 

लगातार अस्थमा

• क्रोनिक कोर पल्मोनाल ~ फेफड़ों की नसों में उच्च रक्तचाप के कारण, दिल के आकार (दाएं वेंट्रिकल) बढ़ जाता है, जोकि अंत में दिल की विफलता (हार्ट फेल्यिर) की ओर बढ़ता जाता है।

• एयर सैक को नुकसान (एम्फिसिमा)।

• फेफड़ों में संयोजी (कनेक्टिव) ऊतक का अत्यधिक गठन हो सकता है (न्यूमोस्क्लेरोसिस)।

• पुरानी श्वसन विफलता।

• फेफड़ों के छोटे वायुमार्ग मार्ग (ब्रोंन्काई) की बाधा या विकृति।

 

अस्थमा की आशंका

• दमा अटैक, जो इन्हेल्ड कोर्टिकोस्टेरॉयड (दमा स्थिति) के उपयोग से भी सुधार नहीं दिखाता है।

• अक्यूट या सबअक्यूट कोर पल्मोनाल।

• फेफड़ों से हवा का रिसाव, जिससे फेफड़े कोलैप्स कर जाते हैं।

• वायु-थैली, तरल पदार्थ से भर जाती है, और संक्रमित हो सकती है (निमोनिया)।

• हवा फेफड़ों से बाहर लीक हो जाती है, और फेफड़ों और छाती की दीवार (निमोथोरेक्स) के बीच फंस जाती है।

• हवा फेफड़ों से, जाल जैसे ऊतक में चली जाती है, जो दोनों फेफड़ों को अलग करती है, जिसमें हृदय (हार्ट) और खून की नसें (न्यूमोमीडियास्टेनम) होते हैं।

 

बच्चों में

• परेशानी वाली नींद

• विकास में देरी

• सीखने की विकलांगता का खतरा

 

वयस्कों में

• अवसाद (डिप्रेशन)

• तनाव (स्ट्रेस)

• नियमित गतिविधियों को पूरा करने में असमर्थता

अधिक जानें …

निदान (डायग्नोसिस):

• रोगी का उचित इतिहास: अवधि, यह कब होता है (दिन/रात), कितनी बार ऐसा होता है, ट्रिगर वाले कारक, और चेतावनी के संकेत का पता करने के लिए यह आवश्यक होता है।

• शारीरिक परिक्षण: छाती का ऑस्कुलेशन जरूरी होता है।

• छाती का रेडियोग्राफ: छाती का एक्स-रे, सफेद क्षेत्रों (सूजन) या काले क्षेत्रों के रूप में फेफड़ों के ऊतकों में परिवर्तन दिखाता है, जिसमें खून की नसें (एम्फिसिमा) नहीं होती हैं। यह निमोनिया, न्यूमोथोरेक्स, या पतन (कोलैप्स) जैसी जटिलताओं के बारे में जानकारी देता है।

• सीटी चेस्ट: यह फेफड़ों के परेंकाइमा में अधिक मिनट परिवर्तन का अध्ययन करने के लिए किया जाता है, जैसे वायुमार्ग का मोटा होना, एअर-सैक्स के भीतर हवा का फंसना, और वायुमार्ग को चौड़ा होना। यह अन्य बीमारियों से अस्थमा का निदान करने में मदद करता है, जिनके लक्षण अस्थमा जैसे होते हैं, जैसे सीओपीडी या क्रोनिक ब्रोंकाइटिस।

• कुल रक्त कोशिकाएं: एलर्जी प्रतिक्रियाओं के कारण सफेद रक्त कोशिकाओं में और ईएसआर मूल्य में वृद्धि होती है।

• इम्यूनोलॉजिकल परिक्षण: आईजीई का बढ़ा हुआ सीरम स्तर।

• स्प्यूटम माइक्रोस्कोपी: यह आम तौर पर अस्थमा के मामले में मौजूद इंफ्लामेट्री कोशिकाओं (चारकॉटलेडेन क्रिस्टल, मास्ट कोशिकायें, कर्समान स्पाईरल) का पता लगाता है।

• पल्स ऑक्सीमेट्री और आट्रेिरयल ब्लड गैस: यह खून में ऑक्सीजन की मात्रा को मापता है।

• लंग फंक्शन परिक्षण:

स्पाइरोमीटर उपकरणों का उपयोग फेफड़े के कामकाज का आकलन करने के लिए किया जाता है। इससे यह पता लगाता है कि, फेफड़े हवा को कितनी देर तक पकड़ सकते हैं, अंदर ले सकते हैं, और बाहर निकाल सकते हैं (कम हवा अंदर – प्रतिबंधात्मक प्रकार, कम हवा बाहर- प्रतिरोधी प्रकार की फेफड़ों की बीमारी)। यह चल रहे इलाज के आकलन और हालत की गंभीरता की ग्रेडिंग में भी मददगार होता है।

पीक फ्लो मॉनिटर की मदद से, हम उस गति को माप कर सकते हैं, जिस गति से हवा फेफड़ों द्वारा बाहर निकलती है। वायुमार्ग में बलगम और सूजन के बढ़ने के कारण उस दर में कमी आती है, जिस दर से फेफड़े हवा छोड़ते है।

• उत्तेजक परिक्षण: यह व्यायाम और ठंड से प्रेरित अस्थमा के लिए किया जाता है।

• मेथाकोलिन परिक्षण: किसी व्यक्ति को दवा देने पर, यदि वह इस पर प्रतिक्रिया करता है (दवा को अंदर लेने पर वायुमार्ग में हल्की कसापन होता है), तो परिक्षण सकारात्मक होता है।

• नाइट्रिक ऑक्साइड को मापना: आपकी सांस, अस्थमा की पहचान में मदद करती है, क्योंकि सूजे हुये वायुमार्ग में नाइट्रिक ऑक्साइड के स्तर की मौजूदगी अधिक होती है।

अधिक जानें …

रोकथाम:

• सिगरेट के धुएं से बचें: सिगरेट पीना छोड़ दें, और निष्क्रिय धूम्रपान से बचें।

• हवा में नमी रखें।

• टीके: इन्फ्लूएंजा, वायरस, और निमोनिया से बचने के लिए फ्लू वैक्सीन ले।

• नियमित रूप से व्यायाम करें: यह अस्थमा के अटैक को रोकने और वजन को बढ़ने से रोकता करता है, जिनकी वजह से आपके लक्षण बिगड़ सकते हैं।

• एयर प्यूरिफायर का उपयोग करें: यह एलर्जी को रोकता है, और आपके आसपास की हवा को बेहतर बनाये रखता है।

• एन-95 मास्क का उपयोग करें: यह आपको एलर्जी/ धूल कणों/ वायु प्रदूषण से रोकता है, जिनकी वजह से दमा के हमले ट्रिगर होते हैं।

• पेट की जलन का इलाज करें: एसिड रिफ्लक्स फेफड़ों के वायुमार्ग को नुकसान पहुंचाता है, जिसके कारण आपके लक्षण बिगड़ते है। अपने गैस्ट्रोसोफेजल रिफ्लक्स या पेट की जलन का जल्दी इलाज करना बेहतर होता है, क्योंकि ये आपको अस्थमा के लक्षणों से राहत पाने में सहायता करते हैं।

उपचार:

asthma inhaler treatment

 

त्वरित बचाव

• सोर्ट- एक्टिंग बीटा एगोनिस्ट: ये कुछ ही मिनटों के अंदर काम करता हैं। यह वायुमार्ग की चिकनी मांसपेशियों की कोशिकाओं को आराम देकर और मांसपेशियों (अल्बुटेरोल, टेर्बुटालिन, और लेवलबुटेरोल, कार्रवाई की अवधि 3-6 घंटे) को कसने से रोककर मदद करता हैं। इसका उपयोग स्पेसर या नेबुलाइज़र के साथ मीटर-खुराक इनहेलर द्वारा किया जाता है।

• कोर्टिकोस्टेरॉयड: ये सूजन के खिलाफ काम करते हैं। इसे ओरली या नसों में दिया जा सकता है (प्रेडनिसोन और मिथाइलप्रेडनिसोलोन)।

• एंटीकोलिनिर्जिक्स/इप्राट्रोपियम: यह ब्रोंकोडाइलेटर के रूप में काम करता है, जो वायुमार्ग को आराम देकर, बलगम बनने को कम करने में मदद करता है।

• क्रोमोन: बच्चों में अस्थमा के इलाज में क्रोमोलिन सोडियम सुरक्षित है।

 

दीर्घकालिक नियंत्रण

• सार्ट एक्टिंग बीटा एगोनिस्ट: ये कुछ ही मिनटों के भीतर कार्य करते हैं। ये वायुमार्ग की चिकनी मांसपेशियों की कोशिकाओं को आराम देकर और मांसपेशियों को कसने से रोककर मदद करते हैं। साल्मीटरॉल और फोर्मोटेरोल, जिसका उपयोग एक स्पेसर या नेबुलाइजर के साथ मीटर-डोज इनहेलर द्वारा किया जाता है।

• साँस कोर्टिकोस्टेरॉयड: ये एन्टी इंफ्लामेट्री (फ्लूटिकासोन, बुडेसोनाइड, फ्लूनिसॉलिड और बेक्लोमेथासोन) के रूप में काम करते हैं।

• एंटी ल्यूकोट्रीन: जैसे मोंटेलुकास्ट और ज़फिरलुकास्ट। अकेले ये कम काम करते हैं, इसलिए ये चिकित्सा/उपचार का हिस्सा होते हैं। यह सूजन और भारीपन को कम करने में मदद करता है। इसने व्यायाम-प्रेरित ब्रोंको कॉन्स्ट्रिक्सन में अच्छा परिणाम दिखता हैं।

• थियोफिललाइन: वायुमार्ग को चौड़ा करके और वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियों को आराम देने में मदद करता है।

 

एलर्जी नियंत्रण

• इम्यूनोथेरेपी: विशेष एलर्जन के लिए, प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को कम करता है। उपचार/चिकित्सा हफ्ते में एक बार कुछ महीनों के लिए दी जाती है, उसके बाद महीने में एक बार 3/5 साल के लिए दी जाती है।

• ओमलीज़ुमैब: यह एक प्रोटीन है, जो मानव एंटीबॉडी की नकल करता है। ये आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा जारी कोशिकाओं को ब्लाॅक करता हैं। यह इंजेक्ट करने वाली दवा (Xolair) है। यह सिर दर्द के सामान्य दुष्प्रभाव, इंजेक्शन की जगह पर दर्द और लालिमा और ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण के साथ जुड़ा हुआ है। यह जानलेवा प्रतिक्रियाओं का कारण भी बन सकता है। इसलिए एक व्यक्ति को दवा लेने के बाद कम से कम 2 घंटे के लिए निगरानी में होना चाहिए।

• एंटी-आईएल-5: (मेपोलिज़ुमैब या रेसलिज़ुमैब) खून और ऊतक में मौजूद सफेद रक्त कोशिकाओं (eosinophils) को कम करते हैं।

 

ब्रोंकियल थर्मोप्लास्टी

• इसके बारे में तब सोचा जाता है, जब किसी व्यक्ति में गंभीर लक्षण होते हैं और इन्हेल्ड कोर्टिकोस्टेरॉयड और अन्य लम्बे समय तक चलने वाली दवाओं से कोई मदद या राहत नहीं मिलती है।

• यह प्रक्रिया चिकित्सीय रेडियोफ्रीक्वेंसी का उपयोग करके, इलेक्ट्रोड की मदद से वायुमार्ग को गर्म करती है। ये मांसपेशियों की चिकनी कोशिकाओं को कम करता है। इस तरह यह वायुमार्ग के चारों ओर कसाव को कम करता है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है।

• अगले सत्र से पहले, पूरी रिकवरी के साथ 3 सप्ताह के अंतराल पर तीन सत्र (1st-राइट मिडिल लोब, 2nd– लेफ्ट लोअर लोब और 3rd– बोथ अपर लोब)।

• प्रत्येक सत्र में 30-45 मिनट लगते हैं।

• अपनी पूरी लंबाई के साथ प्रत्येक वायु मार्ग (ब्रोंकस) का इलाज, 3-10 मिमी व्यास के बीच ~ 5 मिमी की एक लक्ष्यीकरण साइट के साथ किया जाता है।

अधिक जानें …

उपाय:

• ह्यूमिडिफायर और एयर प्यूरीफायर का उपयोग करना: अस्थमा ठंडी शीतोष्ण और कम आर्द्र हवा में शुरू होता है, इसलिए गर्म आर्द्र हवा फायदेमंद होती है एयर प्यूरीफायर का उपयोग किसी भी एलर्जी से छुटकारा पाने में मदद करता है, जो हमले को ट्रिगर कर सकते है।

• कैफीन पीना: इसके सेवन से लोगों में मांसपेशियों की थकान कम होती है। और फेफड़ों के फंक्शन में 4 घंटे तक सुधार देखा गया है।

• अदरक और हल्दी का उपयोग: अपने एन्टी इंफ्लामेट्री गुणों के कारण यह, दमा के हमलों को कम करने में मदद करता है।

• सूखी अदरक, लंबी काली मिर्च और काली मिर्च: इसका पाउडर बनायें और दिन में 3 बार शहद के साथ ले। यह मिश्रण वायुमार्ग की सूजन को कम करने में मदद करता है।

• अदरक का सूप पीने की कोशिश करें: लहसुन की 2-3 कुचे हुये टुकड़े लें, और अदरक की चाय के साथ मिलाएं और फिर इसे पीएं। अदरक और लहसुन सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

• दालचीनी के रस के साथ शहद पीना: उबालने के लिए एक कप पानी लें और उसमें आधा चम्मच दालचीनी पाउडर डालें। इसे ठंडा होने दें, और फिर मिश्रण में 1 चम्मच शहद डालकर दिन में दो बार लें।

• बे लीफ: पाउडर के रूप में (1/4 चम्मच) सूखा और कुचला बे पत्ती लें, फिर इसे एक चम्मच ऑर्गेनिक शहद के साथ मिलाएं और अस्थमा के लक्षणों को रोकने के लिए दिन में तीन बार इस मिश्रण को लें।

• पेपरमिंट और यूकेलिप्टस इसेन्शियल तेल: इसमें एन्टी इंफ्लामेंट्री और डी-स्ट्रेसिंग गुण होते हैं, हालांकि, कुछ मामलों में, ये ट्रिगर कारकों के रूप में कार्य कर सकते हैं।

• अपने रहने की जगह को डिक्लटर करें: आसनों, कालीनों, एनकेस तकिए, भारी पर्दे का उपयोग करने से बचें। धूल से अपने घर को साफ करें, धोने योग्य और हल्के डार्क पर्दों का उपयोग करें।

अधिक जानें …

अस्थमा के साथ रहना

• उपचार की रेखा का पालन करें: दमा हमलों को संभालने के लिए खुद को प्रशिक्षित करें। आपात स्थिति के समय में किसको संपर्क करना है, और डॉक्टर को कब देखना है इसका ध्यान रखें। सतर्क संकेतों की निगरानी रखें।

• अपने ट्रिगर कारकों की पहचान करें: पराग, वायु प्रदूषकों, या किसी अन्य भौतिक कारकों से दूर रहें, जो आपके हमले को ट्रिगर करते हैं।

• अपने लक्षणों की जांच रखें: इसकी अवधि और गंभीरता का ध्यान रखें। उन्हें ट्रैक करने के लिए एक डायरी रखें।

• पर्याप्त नींद लें: अगर आपके लक्षण, महीने में दो बार से ज्यादा आपको सोने के लिए परेशान कर रहे हैं, तो डॉक्टर से मिलकर उस पर चर्चा करें।

• व्यायाम करें और अपने वजन को नियंत्रण में रखें: मोटापा होने से इसके लक्षण बिगड़ जाते हैं। एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखने की कोशिश करें।

• गर्भावस्था: यदि आप गर्भ धारण करते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें और गर्भावस्था से संबंधित जोखिम पर चर्चा करें।

• भावनात्मक तनाव से बचें

• टीकाकरण: फ्लू के खिलाफ टीका लगवाएं, क्योंकि संक्रमण को रोकने और दमा के हमले को ट्रिगर करने के लिए यह आवश्यक है।

• ह्यूमिडिफायर और एयर प्यूरिफायर का उपयोग करें: एलर्जी और ठंडी हवा को रोकने के लिए।

• धूम्रपान छोड़ें

• स्थानों से बचें: जिनमें मोल्ड, धूल के कण, या पालतू डैंडर हैं।

अधिक जानें …

यह लेख इन संदर्भों की मदद से किए गए शोध पर आधारित है

https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/asthma
https://www.lung.org/lung-health-and-diseases/lung-disease-lookup/asthma/learn-about-asthma/what-is-asthma.html
https://www.aaaai.org/conditions-and-treatments/asthma

TOP HEALTH NEWS & RESEARCH

Breast cancer: One-dose radiotherapy ‘as effective as full course’

Breast cancer: One-dose radiotherapy ‘as effective as full course’

A single targeted dose of radiotherapy could be as effective at treating breast cancer as a full course, a long-term…

Coronavirus smell loss ‘different from cold and flu’

Coronavirus smell loss ‘different from cold and flu’

The loss of smell that can accompany coronavirus is unique and different from that experienced by someone with a bad…

Lancet Editor Spills the Beans

Lancet Editor Spills the Beans

Editors of The Lancet and the New England Journal of Medicine: Pharmaceutical Companies are so Financially Powerful They Pressure us…

मदर एंड चाइल्ड

प्रसवोत्तर जटिलतायें और देखभाल

प्रसवोत्तर जटिलतायें और देखभाल

प्रसवोत्तर अवधि क्या है? एक प्रसवोत्तर अवधि एक एैसा समय अंतराल है, जिसमें मां बच्चे को जन्म देने के बाद…

प्रसवोत्तर आहार- (बेहतर स्वास्थ्य के लिए प्रसव के बाद आहार सिफारिशें)

प्रसवोत्तर आहार- (बेहतर स्वास्थ्य के लिए प्रसव के बाद आहार सिफारिशें)

प्रसवोत्तर या स्तनपान आहार क्या है? पोस्टपार्टम डाइट वह डाइट है, जो मां को एक बार बच्चे के जन्म के…

गर्भावस्था के लिए खाद्य गाइड

गर्भावस्था के लिए खाद्य गाइड

बच्चे के बेहतर स्वास्थ्य के लिए खाने और बचने वाले खाद्य पदार्थों की सूची गर्भ धारण करने के बाद, बच्चे…

मन और मानसिक स्वास्थ्य

सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) – निदान

सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) – निदान

कैसे सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) का निदान किया जाता है? नैदानिक इतिहास: डॉक्टर आम तौर पर लक्षणों का विस्तृत इतिहास…

सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) – उपचार

सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) – उपचार

कैसे सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) का इलाज किया जाता है? सामान्यीकृत चिंता विकार का उपचार लक्षणों की गंभीरता और जीवन…

सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी)

सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी)

सामान्यीकृत चिंता विकार क्या है? चिंता, किसी ऐसी चीज के बारे में परेशानी या घबराहट की भावना है, जो हो…